Film Industry: फ़िल्मों का असली नायक VFX

0
93

एस. राजामौली की हालिया रिलीज फिल्म ‘आरआरआर’ बॉक्स ऑफिस पर कमाई से भी ज्यादा अपने विजुअल इफेक्ट्स यानी वीएफएक्स के लिए चर्चा में है। इस फिल्म में छोटे-बड़े 2800 से भी अधिक वो शॉट लिए गए हैं।

वीएफएक्स की पूरी प्रक्रिया कितनी जटिल है, इसका अंदाजा केवल इस तथ्य से लगाया जा सकता कि इसकी वजह से आरआरआर के निर्माण में तीन साल से भी अधिक का वक्त लग गया। इससे पहले राजामौली की ही फिल्म ‘बाहुबली’ (दोनों भाग) भी वीएफएक्स की वजह से काफी चर्चित रही थी, लेकिन तब इसके रचनात्मक पहलू की ही ज्यादा बात हुई थी। इस बार वीएफएक्स ने एक इंडस्ट्री के तौर भी ध्यान खींचा है।

अब कितनी फ़िल्मों में

वीएफएक्स का इस्तेमाल?

आज हर बड़ी फिल्म जिसका बजट 50 से 60 तक जाता है, उसमें एक बड़ा हिस्सा बीएफएक्स का होता ही है। अब बजट का कितना प्रतिशत वीएफएक्स पर खर्च होता है, यह अलग-अलग शैली की फिल्मों में अलग-अलग हो सकता है, फिर भी बड़ी फिल्मों की कुल प्रोडक्शन लागत का लगभग 15 से 20 फीसदी का इस्तेमाल वीएफएक्स के लिए होने लगा है। छोटे बजट की फिल्में भी वीएफएक्स का उपयोग कर रही हैं। अंदाजन लगभग 80 फीसदी फिल्में ऐसी हैं, जिनमें वीएफएक्स का इस्तेमाल हो रहा है। हालांकि अधिकांश छोटी फिल्मों में एक या दो शॉट में ही वीएफएक्स प्रयुक्त होता है।

Also Read: A Thursday (2022) Movie Download in Hindi HD 720p Filmyzilla, 480p Filmywap

भारत में क्या है

वीएफएक्स का भविष्य?

आज से 10 साल पहले भी हिंदी की कुछ फिल्मों जैसे ‘कृष’ और ‘रा.वन’ में वीएफएक्स का अच्छा काम किया गया था। दक्षिण में हमारे पास ‘रोबोट’ और ‘2.0’ थी। यहीं राजामौली की फिल्म ‘मगधीरा’ और ‘मक्खी’ में भी वीएफएक्स का काफी अच्छा इस्तेमाल हुआ। उसके बाद ‘बाहुबली’ आई और तब आम लोगों ने भी वीएफएक्स की चर्चा करनी शुरू कर दी।

बाहुबली से हुई कमाई के बाद निर्माताओं को भी समझ में आया कि अगर हम वीएफएक्स में पैसा खर्च करें तो इसमें काफी अच्छा रिटर्न है। इसलिए छोटी फिल्मों में भी अब वीएफएक्स का इस्तेमाल हो रहा है। इसके जरिए बहुत सी ऐसी चीजें भी दिखाई जा सकती हैं, तो वास्तविक स्तर पर दिखाना मुश्किल और महंगा हो सकता है।

इससे आने वाले वक्त में शूटिंग कॉस्ट भी कम होने की उम्मीद है। अब तो वीएफएक्स का इस्तेमाल दूसरे सेक्टर्स में भी हो रहा है, जैसे प्रजेंटेशन और गैमिंग में। इसलिए यह कहा जाना गलत नहीं होगा कि आने वाले वक्त में वीएफएक्स की अच्छी मांग रहने वाली है और इसलिए इसका व इससे जुड़े लोगों का भविष्य उज्जवल रहने वाला है। जरूरता है तो टैलेंट को प्रोत्साहित करने की। (श्री. श्रीनिवास के साथ रौनक केसवानी की बातचीत पर आधारित).

वीएफएक्स मार्केट में गोथ की 2 वजह

1 ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर बढ़ता गुणवत्तापूर्ण कंटेंट

वीएफएक्स और एनिमेशन मार्केट पर फिक्की की हालिया रिपोर्ट के अनुसार भारत में ओटीटी पर गुणवत्तापूर्ण कंटेट में लगातार हो रही है। 2019 में करीब 2000 घंटे का ओरिजिनल ओटीटी कंटेट निर्मित किया गया था। इस समय करीब 2500 घंटे का कंटेट बनाया जा रहा है। कंटेट में गुणवत्ता की मांग व अपेक्षा के कारण वीएफएक्स का इस्तेमाल भी बढ़ा है। दो साल पहले किसी शो के प्रोडक्शन बजट का 5 फीसदी पर खर्च किया जाता था, अब यह बढ़कर 20 फीसदी तक हो गया है।

2 टेक्नोलॉजी में बढ़ा इनोवेशन

फिल्मों की ही रिपोर्ट कहती है कि भारत में विजुअल इफेक्ट्स से जुड़े कई स्टूडियोज ने स्वयं को टेक्नोलॉजी में अपग्रेड किया है। अब सारे स्टूडियो एक्स में भी रियलटाइम टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे न केवल इस तकनीक को अपनाना आसान हुआ है बल्कि इसकी लागत में भी कमी आई है। इससे प्रोडक्शन हाउसेज की भी वीएफएक्स जैसी तकनीकों के प्रति कम हुई है और इनके इस्तेमाल में बढ़ोतरी हुई है।

सरकार भी दे रही प्रोत्साहन पैदा होंगी 20 लाख नौकरियां

आजकल बहुत से बच्चे बारहवीं के बाद वीएफएक्स इंस्टीट्यूशन्स में जा रहे हैं। वास्तव में स्कूल स्तर पर ही बहुत सारे कोर्स शुरू करने की जरूरत है। सरकार ने इस जरूरत को पहचान भी लिया। है और यह भी समझ लिया है कि आईटी इंडस्ट्री की तरह एनिमेशन एवं वीएफएक्स भी रोजगार का एक बड़ा सैक्टर बन सकता है। इसीलिए 2022 के बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एवी. जी.सी. (एनिमेशन, विजुअल इफेक्ट्स, गैमिंग एवं कॉमिक्स)

Also Read: KGF Chapter 2 (2022) Full movie Download, in Hindi Filmyzilla 720p, filmyhit

पॉलिसी की घोषणा की। इसके तहत ए.वी.जी.सी टास्क फोर्स का गठन किया गया है जो इस बारे में अपनी अनुशंसा देगा कि इस क्षेत्र में जमीनी स्तर पर प्रतिभाओं की तलाश करके किस तरह उन्हें वैश्विक स्तर के लायक बनाया जा सके। वहीं डेलोइट इंडिया के अनुसार सरकार के अकेले इस प्रयास से ही देश में आने वाले सालों में कम से 20 लाख नौकरियां पैदा होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here