अगर किसी को डांस सीखना है तो रोज दोपहर को छत पर नंगे पैर चला जाए

0
30

हमारा नींबू से कहना है कि ज्यादा भाव मत खा। भाव गिरते ही तू फिर मिर्ची के पास आ जाएगा। नींबू, देखना तू फिर किस कदर निचोड़ा जाएगा।

भाई एलन मस्क ने ट्विटर खरीद लिया। अरे खरीदने की क्या जरूरत थी, प्ले स्टोर से डाउनलोड कर लेता। इधर यूपी में महाराज के आदेश से सभी धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर उतरवाए जा रहे हैं। कल सुबह मैंने एक मुर्गी को अपने मुर्गे से कहते सुना, सुनो जी, जब तक ये लाउडस्पीकर वाला मामला ठंडा नहीं हो जाता, तब तक आप भी सुबह चुप ही रहा करो, वरना ख्वामखां लपेटे में आ जाओगे।”

वैसे भिया गर्मी बहुत पड़ रही है। एक ने कहा, अरे रिकॉर्ड टूट गया। मैंने कहा, कैसे रिकॉर्ड टूट गया। अब तो रिकॉर्ड आते भी नहीं। पहले आते थे एचएमवी के।

दोस्तो, इतनी भद्दर गर्मी पड़ रही है, फिर भी शादियां खूब हो रही हैं। उसमें कोई कमी नहीं। बराती लोटमलोट मचाए हैं। सड़क पर नागिन डांस चल रहा है। धूम-धड़ाम मची हुई है। पंडित जी भी दौड़-दौड़कर फेरे करवा रहे हैं। बस वाले, लाइटिंग वाले, बैंड वाले। सब भागे-भागे फिर रहे हैं। घोड़ी अलग हैरान परेशान। उसे एक-एक दिन में पंद्रह-पंद्रह दूल्हों को बिठाना पड़ रहा है। वो यह सोच-सोचकर परेशान कि इतनी शादियां ये इंसान करते ही क्यूं हैं और गर्मी तो कह रही है कि बस हम हैं और कोई नहीं। और ऐसे में बराती भी ऐसे-ऐसे होते हैं कि क्या बताएं।

बताओ लड़की वालों ने बरातियों के लिए वेलकम ड्रिंक के तौर पर कोल्ड ड्रिंक का इंतजाम किया था। क अब कुछ बराती फैल गए। एक अकड़ के बोला, र ‘हम लड़के के फूफा हैं।’ दूसरा बोला, ‘अरे भई हम लड़के के मौसा हैं। हम ये नहीं पिएंगे। हमें तो आप शिकंजी पिलाइए बढ़िया नींबू की।’ एक बोला, ‘लेमन सोडा पिलाइए।’ मतलब जानते हैं ■ कि नींबू के क्या हाल हैं। फिर भी ऐसे लोग लड़की वालों को हैरान करते हैं। वैसे नींबू से कहना है कि ज्यादा भाव मत खा। भाव गिरते ही तू फिर मिर्ची के पास आ जाएगा। नींबू, देखना तू फिर किस कदर निचोड़ा जाएगा।

अभी कल मैंने अपने पड़ोसी नत्थू को उनकी छत पर नाचते हुए देखा। बहुत बढ़िया डांस कर रहे थे। वो तो बाद में पता चला कि भरी दोपहर को वो छत पर बिना चप्पल पहने कपड़े सुखाने चले गए थे। वैसे आइडिया अच्छा है। किसी को फ़ौरन वाला डांस सीखना है तो रोज दोपहर को छत पर नंगे पैर चला जाएं। मेरा दावा है कि एक हफ्ते में वो ऐसा खतरनाक डांसर बन जाएगा कि किसी भी डांस रियलिटी शो में उसकी डायरेक्ट एंट्री हो जाएगी। डांस से मुझे याद आया। मैंने अक्सर बरातों में देखा है कि कुछ लोग सुस्त सुस्त चले जा रहे हैं। तभी कोई आकर उनके कान में कुछ फुसफुसाया।

के पीछे चले जाते है। फिर पांच मिनट बाद मुंह पोंछते हुए वापस आते हैं और वापस आकर ऐसा भयंकर डांस करते हैं कि बैंड बाजे वालों का दम फुला देते हैं। नागिन डांस, बिजली डांस। पता नहीं क्या-क्या अरे ये कार के पीछे या टैंट के पीछे कौन-सा कोरियोग्राफर इनको डांस स्टेप सिखाकर भेजता है। कुछ तो है जो मुझे पता नहीं है।

खैर, गर्मी तो अपने पूरे जुनून पर है। हमारे दोस्त हैं रघु। उनका मुर्गी का फॉर्महाउस है। हमने उनसे पूछा कि भैया रधु इतनी गर्मी पड़ रही है, • तुम अपनी मुर्गियों को गर्मी से कैसे बचाते हो। तो रग्घु बोले, ऐसा है गुरु, अब धंधा है तो सब जुगाड़ भी करना पड़ता है। बाप दादा के टाइम का जमाया हुआ फार्महाउस है। इसके लिए कुछ लड़के काम पर रखे हैं हमने जब ज्यादा गर्मी पड़ती है तो ये हनक हनक के बरफ कूट लेते हैं। देखो, हमारे बाप दादा के का फार्महाउस है। और हमारे यहां की मुर्गियां सब डिग्री होल्डर से कम नहीं हैं। हम जैसे ही कुटी हुई बरफ की नांद के आगे चम्मच लेकर कुर्सी डालकर बैठते हैं, सारी मुर्गियां लाइन लगाकर खड़ी हो जाती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here